Author: Hitesh Pal

माता-पिता

नहाने को पुछा न पानी गरम
हड्डियों को गंगा नहलाते हे वो
माता- पिता को आदर न दिया
और पंडित को शिश झुकाते हे वो
माता-पिता को न पुछा भोजन कभी
और हर साल बरसी मनाते हे वो
जीते जी हँसते हुए दर्द दिया इतना
मरने के बाद रो कर शोक मनाते हे वो

Read More
अधूरी मोहब्बत
कुछ मोहब्बत है अधूरी सी ||
जो न मिल सकी पुरी सी
कुछ मोहब्बत है अधूरी सी |
चाहा था हमने भी जी जान से उनको
न रखी थी कोई कमी दिल मे
हमने तो जहाँ मान लिया था उनको
फिर भी दिल मे
कुछ मोहब्बत है अधूरी सी ||
कभी वो हमसे नज़रें चुराते थे
कभी हमसे नज़रें मिलाते थे
कुछ मोहब्बत है अधूरी सी |
आँखों ही आँखों से प्यार बया कर जाते थे
उनकी यही मोहब्बत हमें समझ नही आती थी
आँखों मे प्यार था दिल मे तिरस्कार था
कुछ मोहब्बत है अधूरी सी ||
Read More
मेरी कामयाबी
मेरी कामयाबी पर लोग क्यू जलते है ऐसा तो क्या किया मेने जो मुझसे दूर चलते है बस मेहनत किये जा रहा हू अपने सपनों को सज़ा रहा हू दिल मे न घृणा किसी से न किसी से बैर मुझको हर किसी को कामयाबी की दुआ दिये जा रहा हू मे तो राही हु बस चले जा रहा हू ।।
Read More
सुनहरी रात
हर शाम के बाद सुनहरी रात आती है ख़्वाबों मे ही उन से बात हो जाती है कुछ वो कुछ हम दर्द दे दिल बया कर जाते है इसी बीच प्यार की गुफ़्तगू हो जाती है रात ऐसे ही उनके ख़्वाबों मे कट जाती है जैसे सुबह उनके मिलन को बुलाती है हर शाम के बाद सुनहरी रात आती है ख़्वाबों मे ही उन से बात हो जाती है ॥
Read More
बूँदे
ये बूँदे जब मुझे भिगोती है मन मे नयी उमंग सजोती है अपने सब दुख दर्द भुल जाता हु मन मे ख़ुशि की बौछार होती है एक पल स्वर्ग पहुँच जाता हु ये बूँदे जब मुझे भिगोती है ।। ये बूँदे तन तो पावन कर जाती है मन भी पावन कर जाती है ईश्वर के समीप होने का मन मे एहसास कराती है दुनिया की सारी ख़ुशी दे जाती है ये बूँदे जब मुझे भिगोती है ।।
Read More
हालात
हालात हे ऐसे बता नही पाता हु अपनी मजबूरी मुसकान तले छुपा जाता हु जी लेता हु एक पल दर्द भरी जिदगी पर किसी के आगे नही गिड़गिड़ाता हु जानता हु लोग रहम तो कर देंगे पर मेरे मजबुरीयो पर हँस कर मेरा सोदा कर देंगे इसलिए हालातो से लड़ जाता हु अपनी मजबुरी दुनिया से छुपाता हु
Read More
हमारा प्यार
कभी न हुयी हो ऐसी बौछार होगी हमारे प्यार की हर जगह बात होगी जब प्यार के अफ़साने लिखे जायेंगे हमारा प्यार याद किया जायेगा क्या प्यार किया था इन लोगो ने एक दूजे के होके भी बेगाने थे नही होती थी कोई मुलाक़ात नही होता था कोई वार्तालाप फिर भी एक दूजे के दिवाने थे ।।
Read More
ये दूरियाँ
अब तो ये दूरी सही नही जाती किसी से बेचैनी कही नही जाती । दिन व्याकुलता मे गुज़र जाता है रात का अकेलापन हमें डराता है यादों के सहारे ही भोर हो जाता है अब तो ये दूरी सही नही जाती किसी से बेचैनी कही नही जाती । हम भी चाहते हे ये दूरी मिट जाये तुम हमारे और हम तुम्हारे हो जाये मिलन हो ऐसा की अफ़साने बन जाये हमारी मोहब्बत के तराने बन जाये हर आशिक यही धुन गून गूनाए अब तो ये दूरी सही नही जाती किसी से बेचैनी कही नही जाती ।
Read More
अजनबी हूँ

अजनबी हूँ इस शहर मे

कोई तो अपना लो

प्यार ना दो भले एक पल

इस दर्द मे साथ निभा लो

उपकार होगा उनका जो

हमें अपने गले लगायेंगे

हम भी भगवान समझ

उन्हें ह्रदय मे बसायेंगे

अजनबी हूँ इस शहर मे

कोई तो अपना लो

Read More
जीवन पथ
मुसाफ़िर हु चलता जा रहा हु मंज़िल का पता नही पथ पर क़दम बठाये जा रहा हु बाधाएँ बहुत आ रही हे पथ पर इस विषम परिस्थिति मे भी बाधाओं से लड़ता जा रहा हु मुसाफ़िर हु जलता जा रहा हु ।। ना किसी से आशा हे कृपा की ना किसी से चाहा हे रहम की पथ पर कर्म किए जा रहा हु मंजिल की चिन्ता छोड़ कर मुसाफ़िर हु चलता जा रहा हु ।।
Read More
X
WhatsApp WhatsApp us