Poetry

वक्त

ज़िन्दगी बदलती है वक़्त के साथ ,

वक़्त बदलता है ज़िन्दगी के साथ,

वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ ,

अपने बदल जाते हैं वक़्त के साथ!

 

Read More
जबरदस्ती

दुरीया अच्छी लगने लगी है

अब मुझे ,

किसी से जबरदस्ती का

रिश्ता रखने से,

किसी पर  अपना हक जताने से !

 

Read More
जिंदगी

है गम नहीं कि,
खर्च हो रहा हूँ,
जिंदगी के सारे,
मर्ज ढ़ो रहा हूँ,
ज़रा मुगालते
में था अब तक।
अब सिर्फ अपने,
सपने जी रहा हूँ.

Read More
माता-पिता

नहाने को पुछा न पानी गरम
हड्डियों को गंगा नहलाते हे वो
माता- पिता को आदर न दिया
और पंडित को शिश झुकाते हे वो
माता-पिता को न पुछा भोजन कभी
और हर साल बरसी मनाते हे वो
जीते जी हँसते हुए दर्द दिया इतना
मरने के बाद रो कर शोक मनाते हे वो

Read More
पापा

किताबों से नहीं,

मेंने रास्तों की ठोकरों से सिखा है,

कि किताबों से नहीं  ,मेंने रास्तो की

ठोकरों से सिखा है

लाखों मुश्किलों में भी हसना

मैंने अपने पापा से सिखा है |

Read More
आसूं

 

मुझे मनाने के लिए

उसका एक बार

मुस्कुरा कर देखना

ओर बोलना ही काफी है ,

लेकिन उसको

मनाने के लिए

मेरे लाखों आसूं

भी कम लगते हैं

Read More
एहसास

1.हर वक़्त बहुत सारी बातें करने

का मन होता हैं तुमसे,

लेकिन तुम्हारी बातें सुनकर

एहसास होता है

हमारा चुप रहना ही

अच्छा है|

2. काश कोई ऐसा इन्सान हमारी

जिंदगी में भी

जो हमारे हर एहसास को

समझ सकता

और कहता कयूँ

उदास रहते हो

मैं हूँ तुम्हारे साथ |

Read More
HELLO!

HELLO!

Tell the story however different you wish to
Twist its intended value
And create your own meaning
that satisifies and suits your expectations
I won’t argue nor play the debate cards
For I have at heart what I meant
When I said: “I need you”
When I said: “I can’t live without you”
And when I said: “My heart beats for you”

Read More
अंधेरे

मुझको अंधेरे में रखा,
उजालों से क्या बैर था,
मुहब्बत हमारी भी थी,
उम्र का फिर कहाँ होश था.
फ़ासले यूँ बढ़ते गये,
शायद उसमें ही कोई दोष था.

 

इमेज सोर्स : गूगल

Read More
चाय – हर हिंदुस्तनी का पहला प्यार

चाय – हर हिंदुस्तानी का पहला प्यार❤️
_________________________________
थोड़ी सी कड़क, थोड़ी सी लाल
और जो ही मिलाया इसमें
चीनी स्वाद अनुसार
तो हो गई तैयार
हर हिन्दुस्तानी का पहला प्यार।
इसकी हर चुस्की में है चुस्ती
हर काम को जो बना दे मजेदार
यही है वो अचूक हथियार।
हर जगह जो मिल जाए आसानी से
कुछ ऐसा ही है ये सामान
बच्चे हो या बूढ़े सब पीते हैं इसको
नहीं है इसमें कोई नुकसान।
है मेहाननवाजी पर भी
इसका सर्वप्रथम अधिकार
इसके बिना अधूरा है हिंदुस्तान में
जस्न का हर स्थान।
कभी दोस्तों के मिलने का
बहाना बन जाता है ये
तो कभी बात को आगे बढ़ाने
का सहारा बन जाता है ये।
अब तो बन चुका है ये
हिंदुस्तान का ये स्वाभिमान
प्रधानमंत्री से लेकर हर हिंदुस्तानी की
है ये आनोखी पहचान। 🙏

 

Read More
X
WhatsApp WhatsApp us